Tea garden's daughter got a chance to study medicine in Ukraine
Tea garden's daughter got a chance to study medicine in Ukraine

मन में इच्छा शक्ति हो तो हर चीज संभव. इस कथन को एक चाय श्रमिक की बेटी ने सच कर दिखाया है ।अलीपुरद्वार जिले की मादरीहाट ब्लॉक के गरगन्डा चाय बागान कि शिक्षा छेत्री को यूक्रेन कि बुकोविनियन स्टेट मेडिकल यूनिवर्सिटी एमबीबीएस में पढ़ाई करने का मौका मिला है। शिक्षा छेत्री के पिता सिबे छेत्री एक प्राथमिक विद्यालय शिक्षक है। जबकि माता दुर्गा छेत्री चाय बागान श्रमिक के तौर पर काम करती है । शिक्षा को इस बार नेट परीक्षा पास करने के बाद एमबीबीएस पढ़ने का मौका मिलता है । लेकिन नेट परीक्षा पास करने के बाद भी उसे किसी भी सरकारी विश्वविद्यालय में दाखिला नहीं मिलता है। उसके बाद शिक्षा में अपना सपना पूरा करने के लिए यूक्रेन कि बुकोविनियन स्टेट मेडिकल यूनिवर्सिटी शिक्षा हासिल करने के लिए आवेदन किया था। जिसे यूक्रेन सरकार ने स्वीकृति प्रदान करते हुए उन्हें यूक्रेन आने का न्योता दिया है। शिक्षा अब अपने आगे की पढ़ाई यूक्रेन जा रही है। आज शिक्षा अपने घर से यूक्रेन के लिए रवाना हुई । बागडोगरा एयरपोर्ट से दिल्ली होते हुए शिक्षा यूक्रेन जाएगी । शिक्षा के इस कामयाबी पर गांव के लोगों ने शिक्षा को सम्मानित किया। आज चाय बागान इलाके में गांव के लोग इकट्ठा होकर शिक्षा क्षेत्रीय को उज्जवल भविष्य की कामना करते हुए उसे विदा किया।गांव के लोगों और स्कूल शिक्षकों ने कहा कि यह हमारे लिए बहुत गर्व की बात है कि एक चाय बागान की बेटी अपने बलबूते यूक्रेन में डॉक्टरी की पढ़ाई करने जा रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here