Bollakali puja organized

कठाम पूजा के माध्यम से शुक्रवार को बोल्ला रक्षा काली पूजा का शुभारंभ हुआ। मंदिर से सटे तालाब में पड़े कठाम को लाकर विधिवत ढंग से पूजा पाठ किया गया। कठाम पूजा के एक सप्ताह बाद से मूर्तिकार मां काली की प्रतिमा बनाना शुरू कर देते हैं। गौरतलब है कि उत्तर बंगाल के बड़ी काली पूजा में से बोल्ला काली पूजा बहुत ज्यादा प्रसिद्ध है। हर साल रास पूर्णिमा के बाद आने वाले शुक्रवार को रक्षा काली मां की पूजा की जाती है। 4 दिनों तक पूजा का आयोजन चलता है। और इस दौरान इलाके में काफी बड़ा मेला भी लगता है ।यहां पर काफी संख्या में लोग मां की पूजा करने आते हैं। इस बार भी कोरोना प्रोटोकॉल को मानते हुए पूजा का आयोजन किया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here