BJP's no-confidence motion against Pradhan

आखिरकार बीते कल दक्षिण दिनाजपुर जिला के डांगा ग्राम पंचायत में प्रधान के खिलाफ भाजपा का लाया गया अविश्वास प्रस्ताव खारिज हो गया। भाजपा सदस्यों की संख्या आधे से कम होने के वजह से अविश्वास प्रस्ताव खारिज हो गया। गौरतलब है कि इस पंचायत में कुल सदस्यों की संख्या 20 है जिसमें भाजपा 11, तृणमूल कांग्रेस के 6 और वामपंठ के 3 सदस्य हैं। पिछले दिनों भाजपा के प्रधान मल्लिका कर्मकार सूत्रधर टीएमसी में शामिल हो गई थी। पंचायत चुनाव के ढाई साल बाद भाजपा ने प्रधान के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाया। बीते कल अविश्वास प्रस्ताव पर वोट होना था। लेकिन भाजपा के सिर्फ 9 सदस्य ही उपस्थित थे। तृणमूल कांग्रेस और वामपंथी कोई भी सदस्य मौजूद नहीं थे। कोरम ना होने के वजह से अविश्वास प्रस्ताव खारिज कर दिया गया। इस बात की जानकारी बालूरघाट के ब्लॉक अधिकारी अनूप सिकदार ने दी है। पंचायत के उपप्रधान तथा बीजेपी के सदस्य सुभाष सरकार ने बताया कि अविश्वास प्रस्ताव में सिर्फ 9 सदस्यों ने भाग लिया था और इसके वजह से ही अविश्वास प्रस्ताव खारिज हो गया। इसके वजह से पंचायत के प्रधान तृणमूल कांग्रेस का ही रह गया। तृणमूल कांग्रेस के जिला कोऑर्डिनेटर सुभाष चाकी ने भाजपा की कड़ी आलोचना करते हुए कहा है कि जिन लोगों ने अविश्वास प्रस्ताव बुलाया उनके ही लोग हैं उपस्थित नहीं थे और यही वजह है कि कानूनन अविश्वास प्रस्ताव को खारिज करना पड़ा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here